Thursday, August 16, 2007

हम तमाशाई हैं क्या ?

बाबा नागार्जुन कहते थे कि वे कविताएँ सुहागन या सधवा होती हैं जो कहीं पाठ्यक्रम में लग जाएँ। इसका मतलब यह नहीं कि बाकी कविताएँ अभागन या विधवा होती हैं। यहाँ चिपकी मेरी कविता तमाशा बाबा के उस कथन के आधार पर फिलहाल सुहागन कविता है। मेरी दो कविताएँ विश्वविद्यालय के स्नातक पाठ्यक्रम में 1993-94 में लगाई गई थीं । पता नहीं अभी है या नहीं। आप भी पढ़ें ।

तमाशा

तमाशा हो रहा है
और हम ताली बजा रहे हैं

मदारी
पैसे से पैसा बना रहा है
हम ताली बजा रहे हैं

मदारी साँप को
दूध पिला रहा हैं
हम ताली बजा रहे हैं

मदारी हमारा लिंग बदल रहा है
हम ताली बजा रहे हैं

अपने जमूरे का गला काट कर
मदारी कह रहा है-
'ताली बजाओ जोर से'
और हम ताली बजा रहे हैं।

8 comments:

Aflatoon said...

कविता लगी रहे ,सधवा रहे ।

अनिल रघुराज said...

क्या बात है...और हम ताली बजा रहे हैं, मैं भी ताली बजा रहा हूं आपकी कविता पर।

अभय तिवारी said...

आप कविता छपा रहे हैं.. हम टिप्पणी सजा रहे हैं.. :)

Neeraj नीरज نیرج said...

ये सच्चाई है.. ये मीडिया है... वही मदारी है.. ठीक सोच रहा हूं?

बोधिसत्व said...

नीरज जी सिर्फ मीडिया ही क्यों हम सब क्यों नहीं भाई। हम सब मदारी हैं। किसी भी बात पर ताली बजाने लगते हैं।

बोधिसत्व said...

आज तक कविता के लगने और निकलने का गणित नहीं समझ पाया हूँ। पाठ्यक्रम बनाने वाले चाहें तो तो कुछ भी हो जाता है। कोई भी कविता सधवा हो कर विधवा हो सकती है। मेरी कुछ और सुहागन कविताएँ है कभी फिर छापूँगा ।

अनूप शुक्ला said...

आपकी सारी कविताओं के सुहाग बनें रहें।

अनूप शुक्ला said...

आपकी सारी कविताओं के सुहाग बनें रहें।